'अमेरिका' के लिए खोज परिणाम

गुरपतवंत सिंह पन्नून, अमेरिका, भारत,

आखिर अमेरिका पन्नू की सुरक्षा के लिए चिंतित क्यों है?

WHY?फाइनेंशियल टाइम्स के एक नवीन लेख में संयुक्त राज्य अमेरिका और भारत से सम्बंधित एक चिंताजनक प्रसङ्ग सामने आया है। लेख के अनुसार, अमेरिकी अधिकारी एक सिख अलगाववादी नेता गुरपतवंत सिंह पन्नून की हत्या के षड्यंत्र को विफल करने में सफल रहे, ज्ञात हो कि पन्नून के पास अमेरिका और ...

अमेरिका को लगा कि वेनेज़ुएला के साथ कोई समझौता करने का साहस नहीं करेगा, परन्तु भारत के विचार कुछ और ही है!

अमेरिका को लगा कि वेनेज़ुएला के साथ कोई समझौता करने का साहस नहीं करेगा, परन्तु भारत के विचार कुछ और ही है!

भारत के एक दांव से सब दंग! अब भारत को चाहिए पूरा सम्मान! कैसे वेनेज़ुएला के साथ एक डील ने बढ़ाया भारत का कूटनीतिक कद! क्यों अब किसी महाशक्ति के भय से अपना हित नहीं त्यागेगा भारत! कैसे तेल के क्षेत्र में भारत बन सकता है आत्मनिर्भर? वेनेज़ुएला के साथ ...

अब अमेरिका ने भी कनाडा से मुंह मोड़ा!

अब अमेरिका ने भी कनाडा से मुंह मोड़ा!

Michael Rubin comments: अगर जस्टिन ट्रूडो ने डिप्लोमेसी का डी भी पढ़ा होता, तो उसे ज्ञात होता कि भारत से पन्गा मोल लेना कोई लाभ का सौदा नहीं! परन्तु सत्ता के मद में चूर इस जड़बुद्धि ने वही किया जो इसे ठीक लगा। "अल्पसंख्यकों के रक्षक" बनने के नाम पर ...

क्या अमेरिका ने गिराई इमरान खान की सरकार?

क्या अमेरिका ने गिराई इमरान खान की सरकार?

अब पाकिस्तान के राजनीतिक धुरंधर माने जाने वाले इमरान खान आधिकारिक रूप से सलाखों के पीछे हैं. परन्तु कुछ बातें ऐसी भी सामने आई है, जिसके बाद ये स्वीकारना असंभव है कि केवल जनाक्रोश एवं विपक्ष की एकजुटता के पीछे इन्हे सत्ता से पदच्युत किया गया. क्या संयुक्त राज्य अमेरिका ...

इलहान का दुख, आन्दोलनजीवी का फ्लॉप शॉ और अमेरिका में मोदी की हुंकार!

इलहान का दुख, आन्दोलनजीवी का फ्लॉप शॉ और अमेरिका में मोदी की हुंकार!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वर्तमान संयुक्त राज्य अमेरिका यात्रा ने वैश्विक राजनीतिक मंच पर सुर्खियां बटोर ली हैं। हालाँकि इसे ऐतिहासिक उपलब्धियों, मुखर विरोध और विश्व मंच पर भारत के उभरते कद के प्रदर्शन द्वारा चिह्नित किया गया है, लेकिन इन घटनाक्रमों पर व्यापक प्रतिक्रियाएँ घटनाओं की तरह ही बहुआयामी ...

अमेरिका जलता रहा, और बाइडन टुनटुना बजाता रहा

अमेरिका जलता रहा, और बाइडन टुनटुना बजाता रहा

एक ओर पाकिस्तान पूरी तरह से बिखरने की ओर अपने कदम बढ़ा चुका है। वहीं दूसरी ओर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कई वर्षों बाद अमेरिकी दौरे के लिए तैयार हैं। परंतु इसी बीच अमेरिका ने सिद्ध कर दिया कि क्यों वह कभी भी भरोसे के योग्य नहीं। फिर से दिखाई अंकल ...

Donald Trump arrest

विदेश मंत्रालय ने स्पष्ट किया : अमेरिका का मैटर हमारी दृष्टि में!

Donald Trump arrest: कुछ लोगों को उन्ही की भाषा में जब तक कोई बात न बताएँ, उन्हे स्थिति समझ में नहीं आती। यह बात अमेरिका पर शत प्रतिशत लागू होती है, जिसे न जाने क्यों भारत समेत कई देशों के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप करने की खुजली मची रहती है। ...

2 वर्ष बाद यही देना था, तो बिना राजदूत के ही बेहतर थे भारत और अमेरिका

2 वर्ष बाद यही देना था, तो बिना राजदूत के ही बेहतर थे भारत और अमेरिका

आपने कभी न कभी मोहल्ले में एक “बिट्टू की मम्मी” अवश्य देखी होंगी। ये ऐसे प्राणी होते हैं, जिनके खुद के घर में भले ही आग लग जाए, परंतु ये दूसरे के घर में तांक झांक न करें, ऐसा हो ही नहीं सकता। यूनाइटेड स्टेटस ऑफ अमेरिका भी वैश्विक दृष्टिकोण ...

सेमीकंडक्टर पर एक हुए अमेरिका और भारत

सेमीकंडक्टर पर एक हुए अमेरिका और भारत

India US MoU on semiconductors: किसी ने सत्य ही कहा है, "जब दोस्त बनके काम किया जा सकता है, तो दुश्मनी की क्या ज़रूरत" इसी पद्धति पर आगे बढ़ते हुए अमेरिका और भारत एक महत्वपूर्ण संधि पर हस्ताक्षर कर चुके हैं, जिसमें लाभ दोनों को होगा, और हानि केवल चीन ...

Blinken was not in India for India, he was here for Russia

जी 20 मंच का इस्तेमाल रूस के विरुद्ध करने के प्रयासों में लगा है अमेरिका

जो दिखता है, आवश्यक नहीं कि वही सत्य हो। पिछले कुछ दिनों से अमेरिका कुछ ही ज़्यादा “भारत का हितैषी” दिखने को उद्यत है। वह संसार को यह दिखाना चाहता है कि भारत के लिए यदि कोई सबसे अधिक चिंतित है तो वह अमेरिका ही है, परंतु जी 20 सम्मेलन ...

अमेरिका भारत

भारत का हितैषी दिखने का स्वांग रचकर अपने पाप धुलना चाहता है अमेरिका

पड़ोसी देश पाकिस्तान कंगाल हो चुका है, यह सर्वविदित है। वहां दाने-दाने के लाले पड़े हुए हैं। पाकिस्तान दर-दर जाकर ऋण रुपी भीख मांग रहा है। ऐसे में अब एक बार फिर चीन पाकिस्तान को ऋण देने के लिए आगे आया है। चीन अपने विशिष्ट मित्र पाकिस्तान को 70 करोड़ ...

भारत अमेरिका संबंध

जब तक डेमोक्रेट पार्टी सत्ता में है, भारत-अमेरिका के संबंध प्रगाढ़ नहीं हो सकते

भारत अमेरिका संबंध: इन दिनों अमेरिका, भारत का बहुत बड़ा हितैषी बन रहा है। आर्थिक संबंधों से लेकर सामरिक संबंधों तक अमेरिका बार-बार व्यापक परिर्वतन करने को उद्यत दिखाई देता है। दूसरी ओर विपक्षी पार्टी यानी रिपब्लिकन पार्टी भी पीछे नहीं है और भारत को आकृष्ट करने के लिए एड़ी ...

पृष्ठ 1 of 291 1 2 291
  • सर्वाधिक पढ़े गए
  • टिप्पणियाँ
  • नवीनतम

Follow us on Twitter

and never miss an insightful take by the TFIPOST team