'उपभोक्तावाद' के लिए खोज परिणाम

Caste in India

कैसे एक षड्यंत्र के तहत भारत को जाति के आधार पर बांटा गया? एक एक कड़ी समझिए

कौन जात हो, आपने यह प्रश्र कई बार सुना होगा। किसी भी मुद्दे को जाति से जोड़कर सवर्णों की गलती निकालना वामपंथियों की आदत है। सटीक शब्दों में कहा जाए तो यह एक ऐसी बीमारी बन गई है, जो कि भारत को कदम-कदम पर बदनाम करने और उसकी सामाजिक व्यवस्था ...

sentinelese tribe

सेंटिनली जनजाति के बारे में सबकुछ जानिए जो ‘सभ्य समाज’ से दूर रहना चाहती है

चार्ल्स डार्विन की "ओरिजिन ऑव स्पीशीज़" नामक पुस्तक से पूर्व साधारण धारणा यह थी कि सभी जीवधारियों को किसी दैवीय शक्ति (ईश्वर) ने उत्पन्न किया है तथा उनकी संख्या, रूप और आकृति सदा से ही निश्चित रही है। परंतु उक्त पुस्तक के प्रकाशन (सन् 1859) के पश्चात विकासवाद ने इस ...

sanatan

हम कम से कम 150 वर्ष तक का जीवन जी सकते हैं, बस यह करना होगा

अरे भाई, यह जीवन व्यर्थ है! शहर की लाइफस्टाइल बहुत बेकार है! Oh! this toxic environment यह हार्ट diseases इतने क्यों बढ़ रहे हैं?   ऐसे कितने उदाहरण होंगे, जिनसे आप कभी न कभी परिचित हुए होंगे। ऐसी कितनी ही बातें होंगी जो आपको दिन प्रतिदिन चिंता के अथाह सागर ...

Loan

भारत में कैसे कर्ज लेना बनता गया त्योहार, इससे तुरंत छुटकारा पाने की है आवश्यकता

हम सभी के जिंदगी में कुछ ना कुछ सपने होते है, जिन्हें पूरा करने के लिए पैसों की आवश्यकता होती है। परंतु जब पैसों की कमी होती है, तो लोग लोन के माध्यम से उन सपनों को पूरा करने में लग जाते है। परंतु देखा जाए तो हमारी भारतीय संस्कृति ...

Shilpa Shetty

शर्म नहीं आती! छोटी बच्ची को Twerk सिखा रही है शिल्पा शेट्टी, इंस्टा पर तो गंदगी मची है

जो दिखता है वही बिकता है, इसी तंत्र के चक्कर में TRP की ऐसी अंधी दौड़ लगायी जा रही है कि रियलिटी शो में अब कुछ भी दिखाया जाने लगा है। दिखाने तक तो ठीक था पर धीरे-धीरे इसे बॉउंड्री के बाहर तब ले जाया जाने लगा जब इस कमाई ...

Energy Drinks Case Study

एनर्जी ड्रिंक्स: जब समाधान बेचने के लिए समस्या बनाई गई, केस स्टडी

टीएफ़आई प्रीमियम में आपका स्वागत है। संसार में दो प्रकार के लोग होते हैं- एक जो समस्या बनाते हैं और दूसरे जो उस समस्या का समाधान बनाते हैं। परंतु बदलते समय के साथ एक नई प्रकार की प्रजाति भी उत्पन्न हुई है– समाधान को बेचने के लिए समस्या रचने वालों ...

भारतीय गर्मियों में अब आपके लिए बिना AC के जीवित रहना असंभव क्यों है?

भारतीय गर्मियों में अब आपके लिए बिना AC के जीवित रहना असंभव क्यों है?

वैश्वीकरण और आधुनिकीकरण के इस युग में हम आंखों पर पट्टी बांधकर पश्चिमी रहन-सहन को अपनाते जा रहे हैं। अंधाधुंध पश्चिम की कॉपी करते जाना चिंता का एक बड़ा विषय बनता जा रहा है। खान-पान तक तो ठीक था, पहनावा भी एक हद तक अपनाया जा सकता है लेकिन भौगोलिक ...

PM Modi

देश को विश्व गुरु बना देगा मोदी सरकार के तहत विकसित हो रहा स्वदेशी पूंजीवाद

लगभग तीन दशक पहले 1991 में, भारत ने अपनी अर्थव्यवस्था को फैबियन समाजवाद से पूंजीवादी अर्थव्यवस्था में बदलना शुरू कर दिया था। यह परिवर्तन बहुत ही अजीबोगरीब प्रकृति का था, क्योंकि यह मुख्य रूप से विदेशी कंपनियों द्वारा संचालित था जिनकी भारतीय बाजार तक पहुंच थी। अमेरिकी, ब्रिटिश और जापानी ...

मिस यूनिवर्स भारत

भारत का 21 वर्ष बाद Miss Universe जीतना संयोग नहीं, सब ‘बाज़ारवाद’ का खेल है

हाल ही में, इजराएल में संपन्न हुए मिस यूनिवर्स 2021 प्रतियोगिता में भारत की हरनाज़ कौर संधू ने मिस यूनिवर्स का मुकुट अपने नाम कर इतिहास रच दिया है। चंडीगढ़ से नाता रखने वाली इस 21 वर्षीय हरनाज़ ने एक लंबे अन्तराल के बाद भारत को यह सम्मान दिलाया है। ...

"सस्ता" हाई फैशन ब्रांड Shein की भारत वापसी जल्द ही,

“सस्ता” हाई फैशन ब्रांड Shein की भारत वापसी जल्द ही, पर इसका बहिष्कार करना क्यों आवश्यक है?

चीनी ऑनलाइन फैशन और स्पोर्ट्स रिटेलर Shein भारत में एक बार फिर वापसी कर रहा है। सरकार ने पिछले साल जून में अन्य चीनी ऐप्स के साथ इसे भी प्रतिबंधित कर दिया था। अतः चीनी ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म दो दिवसीय प्राइम सेल (26-27 जुलाई) के दौरान भारत में अमेज़न द्वारा अप्रत्यक्ष ...

IITian से IAS अधिकारी बने, यह कोई जश्न की बात नहीं है

IITian से IAS अधिकारी बने, यह कोई जश्न की बात नहीं है

अभियांत्रिक या प्रशासनिक? लालबत्ती से आसक्ति है। हमारी, आपकी, हमारे पूरे समाज की। सरकारी सेवा के प्रति भारतीय समाज का अनन्य अनुराग है। होना भी चाहिए। कहते है- “राष्ट्र सेवा पुनीत कार्य में सबसे उत्कृष्टतम है।“ विद्यालयों के श्यामपट्ट पर लिखी उक्ति “ज्ञानार्थ आइए, सेवार्थ जाइए“ ही शिक्षा का शाश्वत ...

अमेरिका

अमेरिका में बच्चों का जन्म दर 35 वर्षों में सबसे निचले स्तर पर, यह सुपर पावर के पतन का कारण बन सकता है

अमेरिका के लिए इस कोरोना के समय में एक और बुरी खबर सामने आई है। नए आंकड़ों के अनुसार, संयुक्त राज्य अमेरिका में जन्म लेने वाले बच्चों की संख्या 35 वर्षों में सबसे कम स्तर पर पहुंच  गई है। रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी) ने बुधवार को एक रिपोर्ट ...

  • सर्वाधिक पढ़े गए
  • टिप्पणियाँ
  • नवीनतम

इस सप्ताह लोकप्रिय

Follow us on Twitter

and never miss an insightful take by the TFIPOST team