'चीन' के लिए खोज परिणाम

bajaj

Bajaj और TVS ने अफ्रीका में पहुंचकर चीनी कंपनियों के साम्राज्य को ध्वस्त कर दिया

दोपहिया वाहनों के मामले में आज भारत दुनिया का सबसे बड़ा बाजार बन चुका है। दुनियाभर के तमाम देशों में भारत के दोपहिया वाहनों को पसंद किया जाता है। हालांकि एक दशक पहले अफ्रीकी महाद्वीप पर चीन के दोपहिया वाहन ने अपना दबदबा बनाया हुआ था। एक समय ऐसा था ...

China

चीनी ऋण जाल बहुत बड़ा झोल है, अफ्रीकी देशों को श्रीलंका से सबक लेना चाहिए

श्रीलंका के साथ चीन की ऋण जाल की कूटनीति ने कई अफ्रीकी देशो को डरा दिया हैं। जिस तरह से श्रीलंका ने हंबनटोटा के रणनीतिक बंदरगाह का नियंत्रण चीन को सौंप दिया है, वह चीन के 'ऋण-जाल कूटनीति' को उजागर करता है। इससे यह सवाल खड़ा होता है कि क्या ...

Dahej Pratha

प्राचीन भारत में दहेज प्रथा की कोई परंपरा नहीं थी, इसे औपचारिक रूप देने वाले अंग्रेज ही थे

आज के आधुनिक भारत में दहेज प्रथा एक सामाजिक खतरा बन गई है. यह महिलाओं पर अत्याचार, दुल्हन पर शारीरिक हिंसा, दुल्हन के माता-पिता पर आर्थिक और भावनात्मक तनाव और वैवाहिक संघर्ष का उद्गम स्रोत हैं। यह खतरा आज भी समाज में मौजूद है भले ही कानूनन शादी के दौरान ...

पाकिस्तान आतंकवाद

चीन बड़ी ही बेशर्मी से पाकिस्तान पोषित आतंकवाद के समर्थन में लगा है

पड़ोसी देश पाकिस्तान भारत के लिए सदैव ही आतंकवाद के लिहाज से एक मुसीबत ही रहा है वो तो भारत है जो इस धूर्त पड़ोसी के सामने हिम्मत के साथ डटा हुआ है और उसकी हवाइयां उड़ा रहा है। वहीं दूसरी तरफ भारत को कमजोर करने की नीति के तहत ...

ppp

चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के भागीदार हैं भारत के PPP

केंद्र सरकार ने 400 चार्टर्ड एकाउंटेंट और कंपनी सचिवों (सीएस) के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की सिफारिश की है, जिन पर मानदंडों और नियमों का उल्लंघन करने और मेट्रो शहरों में चीनी मुखौटा कंपनियों को पुनः जिन्दा करने का आरोप है। यह कार्रवाई 2020 की गलवान झड़प के बाद चीन और ...

Jaishankar

ASEAN को चीन के जबड़े से निकाल लाया है भारत

साउथ ईस्ट एशिया पर अपना दबदबा बनाए रखने और दक्षिण चीन सागर पर अपना हक जमाने के लिए चीन साम दाम दण्ड भेद सभी प्रकार की नीति अपना रहा है लेकिन चीन को इस मोर्चे पर भारत से तगड़ी चुनौती मिल रही है। हाल ही में भारतीय विदेश मंत्री ने ...

भारत रूस ट्रेड कॉरिडोर

चीन को पड़ी दुलत्ती, भारत-रूस ने तैयार कर लिया है अपना ‘अंतरराष्ट्रीय व्यापार कॉरिडोर’

भारत और रूस के संबंधों में कभी कोई कठिनाई, कोई कड़वाहट नहीं आई, इसमें कोई दो राय नहीं। परंतु ऐसा प्रतीत होता है कि इस बार दोनों देश इस नाते को एक नए आयाम पर ले जाने की दिशा में बढ़ रहे हैं। इसी बीच व्यापार का एक नया मार्ग ...

फ्लिपकार्ट

कभी भारत में फ्लिपकार्ट की बोलती थी तूती, अब चीन की गोद में जा बैठा

जब अमेरिका के उद्यमिता के कीड़े ने भारत में जगह ली तो Myntra, PayTm, Zomato जैसे कई स्टार्टअप्स उभरने लगे। उन्हीं स्टार्टअप्स में से एक था फ्लिपकार्ट। फ्लिपकार्ट एक ऐसा ई-कॉमर्स प्लेटफार्म बना जिसे देखकर लगा कि शायद यही है वो जो अमेज़न जैसे बड़े दिग्गज व्यापारी को पीछे छोड़कर ...

चीन के रक्षा मंत्री

चीनी रक्षा मंत्री ने आखिरकार वही स्वीकार किया जोकि हम पहले से जानते थे

चीन का दोमुंहापन और झूठ कई बार दुनिया के सामने आया चुका है। चाहे वह कोरोना जैसी महामारी को जन्म देने का सच छुपाना हो या फिर कोरोना से मरने वाले लोगों की असल संख्या को छुपाना हो या कर्ज की आड़ में दूसरे देशों की संप्रभुता में दखल देना ...

Modi and Jinping

गलवान घटना के 2 वर्ष बाद अब भारत से “शांतिपूर्ण वार्ता” की मांग कर रहा है चीन

संबंध और व्यापार दोनों व्यवहार पर बनते और बिगड़ते हैं। चीन और भारत के निजी और व्यापारिक दोनों संबंध रोलर कोस्टर की भांति कभी बहुत ऊंची उड़ान के साथ उड़ें तो कभी धड़ाम से नीचे गिरे। यूं तो चीन सदा से भारत को दबाव में रखने का आदी रहा है, ...

Greater Nicobar

ग्रेटर निकोबार रणनीति से चीन समेत दुनियाभर को अपनी ताकत दिखाएगा भारत

भारत लंबे समय से तटीय अर्थव्यवस्था के क्षेत्र में विकास के सपनों को संजो रहा है, लेकिन इसमें नियमित तौर पर कुछ ना कुछ बाधाएं आती रहीं- और काम अटकता रहा। जो काम वर्षों पहले हो जाना चाहिए था वो अब हो रहा है, वो भी तब संभव हुआ जब ...

Rajnath Singh

भारत और वियतनाम के बीच हुआ रक्षा समझौता दक्षिण चीन सागर में ‘पेपर ड्रैगन’ की ‘रीढ़’ हिला देगा

दक्षिण चीन सागर में चीन की बढ़ती ताकत का सामना करने के लिए अब भारत और वियतनाम अपने रणनीतिक संबंधों को और मजबूत कर रहे हैं। इसी की दिशा में कार्य करते हुए दोनों देशों ने बीते दिन बुधवार को 10 वर्षीय विजन दस्तावेज सहित प्रमुख समझौतों पर हस्ताक्षर किए, ...

पृष्ठ 1 of 354 1 2 354
  • सर्वाधिक पढ़े गए
  • टिप्पणियाँ
  • नवीनतम

Follow us on Twitter

and never miss an insightful take by the TFIPOST team