'भारत' के लिए खोज परिणाम

IB

भारत की ख़ुफिया एजेंसियों में हुआ यह नया बदलाव बहुत महत्वपूर्ण है

देश में शान्ति और सौहार्द बनाये रखने और देश की सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए सैनिकों के साथ ही कुछ ख़ास टीमों का गठन किया जाता है जिसमें इंटेलिजेंस ब्यूरो और रॉ शामिल हैं. अगर आर्मी भुजाबल है तो ये दोनों टीमें बुद्धिबल. इन दोनों पदों पर हाल ही ...

india america

भारत-रूस नज़दीक क्या आए, अमेरिका तो दोबारा पाकिस्तान को पालने लगा

स्वयं को अमेरिका दुनिया का सबसे शक्तिशाली देश मानता है। वो सोचता है कि पूरी दुनिया उसी के इशारों पर चलें और जो वो कहें वहीं करें। भारत को भी अमेरिका ने अपने इशारों पर चलाने के बहुत प्रयास किए और रूस-यूक्रेन युद्ध के दौरान अमेरिका, भारत और रूस की ...

MODI

कभी भारत को दुत्कारने वाला Lancet अब उसी के भजन गा रहा है

किसी ने सही ही कहा है, व्यक्ति की पांचों उंगलियां और समय कभी एक समान हो ही नहीं सकता। ये कब पलट जाए किसी को आभास भी नहीं होता। जो कभी भारत को नीचा दिखाने का प्रयास हाथ से जाने नहीं देता था अब वही भारत के गुणगान कर रहा ...

lAC

जो मलेशिया कभी विरोध करता था आज भारत का LCA तेजस लेने के लिए गिड़गिड़ा रहा है

भारत का तेजस लड़ाकू विमान अक्सर खबरों में बना रहता है. फ़िलहाल यह मलेशिया को लेकर चर्चा में है. मलेशिया की नज़र भी भारत द्वारा निर्मित इस सुपरसोनिक विमान पर है. इकोनॉमिक टाइम्स रिपोर्ट के अनुसार, मलेशियाई वायु सेना 18 नए हल्के लड़ाकू जेट विमानों की तलाश कर रही है, ...

MODI & PUTIN

बीमा कंपनियों के प्रतिबंध के बावजूद भी रूस से तेल आयात कर रहा है भारत

दोस्ती हो तो रूस और भारत जैसी हो वरना न हो। रण में, बन में चाहे मित्र खड़ा हो प्रलय के मध्य में, इन दोनों ने अपनी मित्रता कर्तव्य का पूर्ण निर्वहन किया है। भारत जब भी सामरिक और कूटनीतिक संकट में फंसा रूस ने नासिर्फ वीटो शक्ति का इस्तेमाल ...

g20

भारत करेगा जम्मू कश्मीर में होने वाले G-20 शिखर सम्मेलन की मेजबानी

जम्मू और कश्मीर जी-20 की 2023 बैठकों की मेजबानी करेगा. जी हाँ!! आपने बिलकुल सही सुना. वही जम्मू और कश्मीर जी -20 की 2023 बैठकों की मेजबानी करेगा जो कभी आतंकियों की साए में अपना दिन गुज़रता था और जिसे कभी दुनिया का सबसे खतरनाक जगह माना जाता था. जी ...

modi bujurg

PM मोदी की प्रशासन में जनभागीदारी ने भारत को अजेय विकास की ओर अग्रसर किया

आप सभी नें तो सुना ही होगा कहते हैं कि पेड़ की जड़ें जितनी मजबूत होती हैं वह पेड़ उतना ही शक्तिशाली होता है और बड़े से बड़े तूफ़ान का सामना डटकर कर सकता है। अगर ध्यान दिया जाये तो मोदी सरकार एक ऐसे ही वृक्ष का उदाहरण है जो ...

PM Modi

मरता हुआ ड्रैगन मित्रता का प्रस्ताव लेकर भारत के सामने गिड़गिड़ा रहा है

भोजपुरी में एक कहावत है 'आटा मड़ले आ दुष्ट कड़ले, ठीक रहेला।' कहने का तात्पर्य है की ‘आटे को जितना गूंथेंगे और दुष्ट प्राणी को जितना कूटेंगे’ उसके स्वभाव में उतना ही निखार आता जाएगा। आप माने या न माने पश्चिम के संदर्भ में यह बात बिल्कुल सटीक बैठती है। ...

Draupadi Murmu

तो इसलिए हमें भारत के राष्ट्रपति के रूप में द्रौपदी मुर्मू की आवश्यकता है

किसी भी वर्ग के उत्थान के लिए सबसे महत्वपूर्ण होता है कि उसे समाज में वरीयता दी जाए। भारत में ऐसा अमूमन कम ही हुआ है, यहां जिसे दबाया गया उसे कभी अपनी आवाज तक बुलंद करने का मौका नहीं दिया गया। लेकिन पीएम मोदी के 2014 में सत्ता में ...

PM modi

पश्चिमी देशों द्वारा भारत को हर वर्ष G7 में आमंत्रित करने के पीछे हैं कई महत्वपूर्ण कारक

दुनिया लगातार ध्रुवीकृत हो रही है। दिलचस्प बात यह है कि यह ध्रुवीकरण अमेरिका विरोधी है। अब लगभग हर विकासशील और विकसित देश अपनी शर्तों और राष्ट्रीय हितों पर बात करने की कोशिश कर रहे हैं। भारत इस मामले में लीडर के रूप में उभरा है। इन वैश्विक मंचों के ...

Reliance out to buy the broke Revlon

दिवालिया होने जा रही रेवलॉन को खरीदेगा भारतीय अरबपति, लेकिन वो अडानी नहीं है

अमेरिकी सौंदर्य प्रसाधन कंपनी रेवलॉन को जल्द ही भारत के अरबपति मुकेश अंबानी ख़रीद सकते हैं। इकॉनोमिक टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज अमेरिकी कंपनी रेवलॉन इंक का अधिग्रहण करने की योजना बना रही है। इस ख़बर के मीडिया में आने के बाद से दिवालिया ...

india & America

पिछले 18 महीनों से भारत में अमेरिका का कोई राजदूत न होना दर्शाता है बाइडेन का दोहरा चरित्र

दुनिया में अगर कोई सबसे बड़ा दोगला है, तो वे अमेरिका ही है। वक्त-वक्त पर अमेरिका अपना दोहरा रवैया दिखा ही देता हैं। एक तरफ तो अमेरिका, भारत को एशिया में अपना सबसे बड़ा भागीदार बताता और भारत के साथ अपने संबंध मजबूत करने की बात करता है। वहीं दूसरी ...

पृष्ठ 1 of 886 1 2 886
  • सर्वाधिक पढ़े गए
  • टिप्पणियाँ
  • नवीनतम

Follow us on Twitter

and never miss an insightful take by the TFIPOST team