'मोदी सरकार' के लिए खोज परिणाम

इन कानूनों को मोदी सरकार को तुरंत वापस लेना चाहिए या फिर संशोधन करना चाहिए

इन कानूनों को मोदी सरकार को तुरंत वापस लेना चाहिए या फिर संशोधन करना चाहिए

कहते हैं कि कानूनों की यातना से अधिक बुरी कोई वेदना नहीं होती. किसी भी राष्ट्र की तरक्की के लिए. किसी भी राष्ट्र की शांति और समृद्धि के लिए सही कानून का होना सर्वप्रथम अनिवार्यता होती है. कानून तय करता है कि किसी भी देश के नागरिक किस तरह से ...

Assam Flood & modi

मोदी सरकार की सबसे बड़ी विफलता है पूर्वोत्तर भारत में बाढ़ के प्रति उदासीनता

एक तरफ जहां उत्तर भारत गर्मी और लू से तप रहा है वहीं दूसरी तरफ पूर्वोत्तर भारत के कई राज्य भारी बारिश के कारण बाढ़ की चपेट में हैं. असम में लगातार बारिश के कारण बाढ़ की स्थिति बनी हुई है. असम में कई जगह भूस्खलन की ख़बरें भी सामने ...

modi

देशद्रोह की धारा 124 A हटाएगी मोदी सरकार, ‘फ़ासीवाद अब और बढ़ जाएगा’, केस स्टडी

2014 का आम चुनाव चल रहा था. हर तरफ राजनीतिक पार्टियां रैलियां कर रही थी. देश में चुनावी माहौल था. इस चुनावी माहौल में एक चर्चा बड़ी तेजी से हो रही थी कि मोदी अगर आ गया तो देश को बर्बाद कर देगा. मोदी पूरे देश को जेल बना देगा. ...

भारत व्हाट्सएप

मोदी सरकार के बनाए नियमों ने WhatsApp को लाइन पर ला दिया है

WhatsApp को निजी मैसेजिंग के लिए बनाया गया था। आज ये मैसेंजिंग एप हमारे जीवन का एक बहुत बड़ा हिस्सा बन चुका है। जिसके जरिए अपने करीबी दोस्तों और परिवार के लोगों से तो जुड़ ही सकते हैं साथ ही व्यवसाय संबंधी बातचीत भी कर पाते हैं। वैसे, अनदेखा करने ...

यूरोपीय यूनियन भारत

भारत द्वारा रूस को मौन समर्थन देने के बावजूद मोदी सरकार के चरणों में लोट रहा है यूरोपीय यूनियन

रूस-यूक्रेन मामले को लेकर भारत अपने तटस्थ रूख पर कायम है और रूस के साथ होने वाले व्यापार को लेकर भी उसने अपनी स्थिति स्पष्ट कर दी है, जिससे अमेरिका समेत पश्चिमी देशों की सुलग पड़ी है। एक ओर पश्चिमी मीडिया भारत को रूस के साथ संबंध तोड़ने की सीख ...

PM Modi and Hindi language

मोदी सरकार के 8 साल बाद अंततः पूरा विपक्ष एक मुद्दे पर एकजुट हुआ और वह मुद्दा है “हिंदी से नफरत”

हिंदी भाषा देश की गौरव है, इसके अतिरिक्त भारत और भारतीयता की परिकल्पना बिल्कुल भी नहीं की जा सकती। अंग्रेज़ों ने हिंदी को जितना गर्त में डालकर जाना था वो डालकर चले गए थे, यही कारण है जो आज हिंदी को राष्ट्र भाषा बन पाना तो दूर, राजभाषा होने के ...

Hafiz Saeed, Talha Saeed

मोदी सरकार ने उठाया ऐसा कदम कि अब मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद का बेटा ‘जहन्नम’ जाएगा

पीएम नरेंद्र मोदी अब सिर्फ एक जननेता नहीं हैं, बल्कि अब वो एक सोच बन चुके हैं। देशहित में उनकी दूरदर्शिता का परिणाम कई क्षेत्रों में देखने को मिलने लगा है। देश मौजूदा समय में दुनिया के सबसे तेजी से बढ़ रहे अर्थव्यवस्थाओं में से एक है। साथ ही मोदी ...

चीन के BRI के ताबूत में आखिरी कील ठोक रही है मोदी सरकार की कूटनीति

चीन के BRI के ताबूत में आखिरी कील ठोक रही है मोदी सरकार की कूटनीति

भारत की संस्कृति में रहा है कि ज़रूरतमंद को पानी और अन्न देने की स्थिति में वो कभी पीछे नहीं रहा है। कोरोनाकाल में जहां देश में ज़रूरतमंदों के लिए जगह जगह राशन वितरण के कैंप दिखे तो अब कई देशों में अनाज की कमी की पूर्ति करने के लिए ...

कृषि निर्यात

मोदी सरकार ने अपने दम पर निर्यात को पुनर्जीवित किया है और कृषि क्षेत्र इस बदलाव का नेतृत्व कर रही है

कोरोना वायरस महामारी के बीच, जब दुनिया फसल में गड़बड़ी के कारण खाद्य संकट से जूझ रही थी, तब भारतीय कृषि क्षेत्र ने अपना उत्पादन कई गुना बढ़ा दिया। हालाँकि, महामारी के बाद की दुनिया में, भारत एक खाद्य निर्यात के स्त्रोत के रूप में उभरने के लिए तैयार है। ...

जानिए कैसे मोदी सरकार ने NPA से लदे सरकारी बैंकों की किस्मत बदल दी!

जानिए कैसे मोदी सरकार ने NPA से लदे सरकारी बैंकों की किस्मत बदल दी!

भारत की राजकीय, संसदीय, संवैधानिक, वित्तीय और आर्थिक व्यवस्था का ऐसा कोई सा भी पहलू नहीं है जिसमें नरेंद्र मोदी की सरकार ने उद्धार नहीं किया है। नरेंद्र मोदी की सरकार ने भारत में लागू अप्रत्यक्ष कर व्यवस्था को पूरी तरह से बदलते हुए वस्तु और सेवा कर अर्थात जीएसटी ...

मोदी सरकार फार्मा-डॉक्टरों के गठजोड़ पर प्रहार करने के लिए तैयार है!

मोदी सरकार फार्मा-डॉक्टरों के गठजोड़ पर प्रहार करने के लिए तैयार है!

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी  ने कुछ सालो पहले ही ये संकेत दिया था की उनकी सरकार एक कानूनी ढांचा ला सकती है जिसके तहत डॉक्टरों को मरीजों को कम लागत वाली जेनेरिक दवाएं लिखनी होगी। जेनेरिक दवा एक ऐसी दवा है जो खुराक, ताकत, प्रशासन के मार्ग, गुणवत्ता, सुरक्षा, प्रदर्शन ...

PM Modi

देश को विश्व गुरु बना देगा मोदी सरकार के तहत विकसित हो रहा स्वदेशी पूंजीवाद

लगभग तीन दशक पहले 1991 में, भारत ने अपनी अर्थव्यवस्था को फैबियन समाजवाद से पूंजीवादी अर्थव्यवस्था में बदलना शुरू कर दिया था। यह परिवर्तन बहुत ही अजीबोगरीब प्रकृति का था, क्योंकि यह मुख्य रूप से विदेशी कंपनियों द्वारा संचालित था जिनकी भारतीय बाजार तक पहुंच थी। अमेरिकी, ब्रिटिश और जापानी ...

पृष्ठ 1 of 357 1 2 357
  • सर्वाधिक पढ़े गए
  • टिप्पणियाँ
  • नवीनतम

Follow us on Twitter

and never miss an insightful take by the TFIPOST team