ताज महल 1989 के कलाकारों ने प्रेम को किया परिभाषित

0
व्यूज़
0
शेयर्स
- फ़ॉन्ट साइज़ +

मुंबई, 14 फरवरी (आईएएनएस)। आगामी नेटफ्लिक्स ऑरिजनल सीरीज ताज महल 1989 में युवा कलाकारों के समूह यानी पारस प्रियदर्शन, अंशुल चौहान और अनुद सिंह ढाका को नब्बे के दशक को जीने का मौक मिला है, जब प्रेम वास्तव में पल्लवित होता था न कि सोशल मीडिया के एडिटेड फोटो में। कलाकारों का कहना है कि आज कल के युवा वास्तविक दुनिया में दिल के रिश्ते को मजबूत करने की बजाय वर्चुअल दुनिया में पोस्ट करने को ज्यादा महत्व देते हैं।

ताज महल 1989 में दो अलग पीढ़ियों की तीन अलग-अलग प्रेम कहानियों को दिखाया गया है, जिन्हें आपस में जोड़ा गया है।

अंशुल से पूछे जाने पर की 90 के दशक की प्रेम कहानियों की तुलना में आज के युग की प्रेम कहानियों में क्या कमी है, इस पर उन्होंने आईएएनएस से कहा, मेरे हिसाब से, उस समय में किसी भी रिश्ते को बनाए रखने की ईच्छा काफी मायने रखती थी। उसे छोड़ने की बजाय उसे बनाए रखने का प्रयास काफी महत्वपूर्ण था। दरअसल, इसके लिए बहुत धैर्य की जरूरत है और मजबूत दिमाग की भी, जो आसानी से हार न माने।

वहीं सीरीज में युवा लड़के का किरदार निभा रहे पारस ने कहा, मेरे ख्याल से हर आइडिया की प्रमाणिकता, चाहे वो कविता हो, सिनेमा हो या अपने प्रेमी/प्रेमिका को प्रभावित करने का हो, उसमें सच्चाई होनी चाहिए। आज कल इन सारी चीजों का फार्मूला आ गया है और लोग उसी का पालन करते हैं। मेरा मानना है कि जोड़ियों को फोटोशूट कर सोशल मीडिया पर डालने से बेहतर उन्हें उस लम्हे को वास्तविकता में जीना चाहिए, ताकि वह ताउम्र याद रहे। सब कुछ इंस्टाग्राम थोड़ी न है यार।

ताज महल 1989 शुक्रवार से नेटफ्लिक्स पर प्रसारित होगा।

–आईएएनएस


Indo Asian News Service

Indo Asian News Service

India's Largest Independent News Service

  • सर्वाधिक पढ़े गए
  • नवीनतम

इस सप्ताह लोकप्रिय